क्या सरकारी तंत्र के दम पर गुंडई ही सत्ता का चरित्र है?

पंचायत चुनाव में सत्ताधारी दल का गुंडई करना ही न्यू नॉर्मल है. वही पार्टी जो इसका विरोध करती है, सत्ता में आने के बाद जमकर गुंडई करती है.

क्या जाति से आगे नहीं बढ़ पाएगी उत्तर प्रदेश की राजनीति?

राजनीति, चुनाव और जाति. इन तीनों का काफी गहरा संबंध है. खासकर उत्तर प्रदेश और बिहार जैसे राज्यों में. बाकी राज्यों में भी जाति काफी...

त्रिवेंद्र सिंह रावत के इस्तीफे की वजह आखिर है क्या?

उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. इस्तीफा देते वक्त रावत ने बताया कि यह पार्टी का फैसला...

बिहार में नीतीश हारे, तो खतरा यूपी में योगी सरकार को भी है!

साल 2014 से पहले तक नीतीश कुमार एनडीए के लिए ब्रांड थे. अटल बिहारी वाजपेयी के बाद एनडीए नीतीश को चेहरा मान रहा था. आज...

आर्टिकल 370 पर शोर करके बेवकूफ बना रहे हैं कश्मीरी नेता?

प्रैक्टिकली सोचें तो आर्टिकल 370 होने या ना होने से आम जनता को ज्यादा फर्क नहीं पड़ता है. अगर महबूबा मुफ्ती या फारूक अब्दुल्ला इसे फिर से लागू
कराने की बात कहें तो यह भी लगभग असंभव है.

हिंदुत्व और मराठी के नाम पर पीटने वाले सचमुच सेक्युलर हो गए?

राजनीति और मौकापरस्ती. ये दोनों पर्यायवाची जैसे हो गए हैं. महाराष्ट्र में इसका ताज़गी बरक़रार है. मराठी मानुष के नाम पर शिवसेना बनी. बाल ठाकरे...

बिहार में नीतीश कुमार को चांपने की तैयारी में है BJP?

बिहार में चुनावी चांपाचांपी जोरों पर है. हर दिन नेता लोग पार्टी बदल रहे हैं. गठबंधन पर गठबंधन बन रहे हैं. अभी तक नीतीश कुमार...

बिहारियों को समझ आएगा पुष्पम प्रिया की प्लूरल्स का पहाड़ा?

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 की तारीखों का ऐलान हो चुका है। तीन चरण की वोटिंग 28 अक्टूबर को शुरू होगी और 10 नवंबर को रिजल्ट...

लड़कर, पिटकर UP में मुख्य विपक्षी पार्टी बन जाएगी कांग्रेस?

यूपी की राजनीति में कांग्रेस मुख्य विपक्ष बनती दिखने लगी है। अखिलेश यादव और मायावती के गढ़ रहे पश्चिमी उत्तर प्रदेश में उनकी गैरमौजूदगी का...

नीतीश वर्सेज Who के चक्कर में पार हो जाएगी NDA की नैया?

राजनीति की सबसे उर्वर जमीन बिहार में चुनाव की शुरुआत हो गई है. सबसे अहम सवाल है कि अबकी कौन जीतेगा? एक तरफ हैं 'सुशासन...